सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

न्यूरोलॉजी क्या है?

न्यूरोलॉजी (स्नायु-विज्ञान) क्या है?

न्यूरोलॉजी, चिकित्सा विज्ञान की वह शाखा है, जिसमे तंत्रिका संबंधी रोगों का उपचार किया जाता है। तंत्रिका तंत्र (नर्वस सिस्टम) मस्तिष्क (ब्रैन), मेरुरज्जु (स्पाइनल कॉर्ड) और इनसे निकलने वाली तंत्रिकाओं (नर्व्स) से बना होता है। तंत्रिकीय नियंत्रण एवं समन्वय का कार्य मुख्यतया मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु के द्वारा किया जाता है।

न्यूरोलॉजिस्ट (स्नायु-विशेषज्ञ) कौन होता है?

न्यूरोलॉजी चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में कार्य करने वाले विशेषज्ञ को न्यूरोलॉजिस्ट कहा जाता है। न्यूरोलॉजिस्ट मस्तिष्क, मेरुरज्जु (स्पाइनल कॉर्ड), नस (नर्व्स) और उनसे संबंधी रोगों का उपचार करता है। न्यूरोलॉजिस्ट को पूरे ध्यान से रोगी के रोग से जुड़े इतिहास (मेडिकल हिस्ट्री) का अध्ययन करना पड़ता है। मरीज के सही रोग को पहचानने एवं उचित उपचार के लिए उस रोग के लक्षणों का बारीकी से विश्लेषण करना होता है। कई जाँचें (डायग्नोस्टिक टेस्ट) जैसे कि - मस्तिष्क का सी.टी. स्कैन या एम.आर.आई. तथा एलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम्स (ई.ई.जी.), इत्यादि सही रोग को पहचानने मे मदद करती है। न्यूरोलॉजिस्ट मेडिकल हिस्ट्री, शारीरिक परीक्षण, जाँचें (डायग्नोस्टिक टेस्ट) एवं अनुभव से ज्यादातर रोगों का उपचार करने में सक्षम होते हैं।

न्यूरोलॉजिस्ट (स्नायु-विशेषज्ञ) किन-किन रोगों का उपचार करता है?

न्यूरोलॉजिस्ट, मुख्यतः निम्नलिखित प्रकार के रोगों का उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं:
  • विभिन्न प्रकार के सिरदर्द: जैसे की - माइग्रैन (अधकपारी), टेन्शॅन टाइप सिरदर्द, क्लस्टर टाइप सिरदर्द
  • मिर्गी और दौरा
  • पक्षाघात (ब्रेन स्ट्रोक)
  • मस्तिष्क में रक्त स्त्राव (ब्रेन हेमरेज)
  • पार्किंसंस रोग
  • भूलने की बीमारी (जैसे की - अल्जाइमर)
  • अनिद्रा रोग
  • मस्तिष्क का संक्रमण
  • मांसपेशियों की बीमारी
  • मियासथीनिया ग्रेविस
  • न्यूरोपैथी
  • चक्कर आना
  • गर्दन और पीठ का दर्द
  • साइटिका

आप से अनुरोध है !

मुझे उम्मीद हैं कि आपको यह तंत्रिका (नर्वस सिस्टम) संबंधी जानकारी अच्छी लगी होगी। अगर आप ऐसी ही और जानकारी जानना चाहते हैं, तो मुझे कमेंट बॉक्स में अपने कमेंट से ज़रुर बताएँ। अगर आपको इस लेख में कोई ग़लती मिले तो कृपया मुझे टिप्पणियों के माध्यम से सूचित करें, ताकि मैं अगले ब्लॉग संदेश (ब्लॉग पोस्ट) में आपको संशोधन के साथ अच्छी जानकारी प्रदान कर सकूँ।

टिप्पणियां

  1. जो पडा लिखा वो भुल जाता हू याद ही नहीं होता हे
    दिमाग स्थिर नहीं रहता है

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. हनी जी!
      आपके टिप्पणी के लिए धन्यवाद!
      कृपया ध्यान दें, आपके लक्षण डिमेंशिया रोग (भूलने की बीमारी) के हो सकते हैं। इस बीमारी के उचित निदान एवं उपचार के लिए किसी नजदीकी न्यूरोलॉजिस्ट से मिलें।
      धन्यवाद

      हटाएं
  2. मेरे हाथ कांपते है मैने रेगुलर एक्सरसाइज भी की है और खान पान का भी ध्यान रखा फिर b nhi thik ho rhe rhe

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके टिप्पणी के लिए धन्यवाद!
      हाथ का कांपना कई कारणों से हो सकता है। इसके लिए बीमारी के बारे में विस्तृत जानकारी एवं परीक्षण की आवश्यकता होती है। कृपया इसके उचित निदान एवं उपचार के लिए किसी नजदीकी न्यूरोलॉजिस्ट से मिलें।

      हटाएं
  3. Sir...mujhe pichle 9 sal se Parkinson's disease hai pahle hath pair me kampan hota tha ab muh me kampan ho rha hai sath sath or bhi bahut sari bimariya hai anidra, yaddast kamjor,Bolne me dikkat,dar ,ghabrahat,logo ke beach bat krne me ghabraht hota hai

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके टिप्पणी के लिए धन्यवाद!
      आप को पार्किंसन की बीमारी काफी समय से है। हो सकता है की आप इसके लिए दवाइयाँ भी ले रहे हों। इस बीमारी में समय के साथ कई अन्य समस्याएं भी आती है जैसे की अनिद्रा, खाने एवं बोलने में परेशानी, याददाश्त की समस्या, इत्यादि। बहुत सारी आप की ज्यादातर समस्याएं इस बीमारी से जुड़ी है। कृपया घबराये नहीं, जल्द ही किसी नज़दीक के न्यूरोलॉजिस्ट से संपर्क करें, ज्यादातर ये समस्याएं दवाओं से ठीक हो जाती है।

      हटाएं
  4. Sir muje kabaj rahti h or hamesa mere sir me dard rahta h

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके टिप्पणी एवम पूछताछ के लिए धन्यवाद!
      आप को कब्ज एवं सिर दर्द के लिए पास के किसी फिजिशियन को दिखाना चाहिए। यदि फिजिशियन को रिफरेन्स की आवश्यकता होगी, तो आप गैस्ट्रोएंटरोलॉजिस्ट या न्यूरोलॉजिस्ट को दिखा सकते है।

      हटाएं
  5. मुझे कुछ कम याद रहता है में भूल जाता हूँ कोई भी काम करता हूँ तो में बाद में भूल जाता हूँ एडवांस सोच नही है कोई काम करता हूं तो बाद में याद नही आता

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके टिप्पणी एवं पूछताछ के लिए धन्यवाद!
      कृपया ध्यान दें, आपके लक्षण डिमेंशिया रोग (भूलने की बीमारी) के हो सकते हैं। इस बीमारी के उचित निदान एवं उपचार के लिए किसी नजदीकी न्यूरोलॉजिस्ट से मिलें।

      हटाएं
  6. उत्तर
    1. रंजीत जी!
      आपके टिप्पणी एवं पूछताछ के लिए धन्यवाद!
      कृपया ध्यान दे, सर का दर्द कई कारणों से हो सकता है। सिर दर्द की बीमारी को समझने के लिए बहुत सारी जानकारियों की आवश्यकता होती है। कभी-कभी ब्रेन का सीटी. स्कैन या एम.आर.आई. की जांच भी आवश्यक होता है। इस बीमारी के उचित निदान एवं उपचार के लिए आप किसी नजदीकी न्यूरोलॉजिस्ट से मिलें।

      हटाएं
  7. Sir meri gardan m jkdan head ki nso ki jkdan v sir dard hota h aankhe bhi bhari hoti h or ak smel type bhi aati h

    जवाब देंहटाएं
  8. मुझे 1 साल से लगभग यह दिक्कत हो रही है मेरे बाए हाथ और बाए पैर में ठंड लगती है यह मार्च का महीना है फिर भी सुबह व शाम को ठंड लगती है
    कम ठंड ज़ब लगती है तो वह तो लगती ही है पर ज़ब अधिक लगती है तो चुभन सी महसूस होती है दर्द होता है...
    करुँ तो करुँ क्या...!!
    मैं चिंता में हूँ...
    हवा हल्की सी ठंड होती है तो इसपे इतनी दिक्कत क्यों हो रही है आखिर??
    पैर धोओ ठंड में तो और भी ठंड लग रही है.. पैर में तो ये हिस्सा बस 1 इंच है.. हाँ हाथ में थोड़ा लम्बा हिस्सा है... पर इसने मेरे नाक में दम कर रखा है
    मुझे महसूस हो रहा है कि ये खून परिसंचरण की कुछ कमी है...गर्मी में इस हिस्से पे बस भारीपन और चिपका चिपका महसूस होता है...और महसूस होता है कुछ तो समस्या है..!ठंड में आलम ज्यादा बुरा है...
    ये दिक्कत मेरे पापा को भी है वो बताते हैं... पर मैं नहीं चाहता कि ये दिक्कत मुझे रहे... मुझे काम करने में बड़ी दिक्कत हो रही है... मैं ध्यान एकाग्र नहीं कर पा रहा हूँ... कोई तो डॉक्टर होगा जो मुझे ठीक कर दे...!!!धन्यवाद!!

    जवाब देंहटाएं
  9. सर मुजे खाया पिया नहीं लगता मैं बहुत परेशान हैं क्या करु मुझे ऐसे लगता मैं हैं ही नही साँस लिया भी फील नहीं होता

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दौरा एवं मिर्गी रोग

दौरा एवं मिर्गी रोग दौरे के समय जब रोगी के शरीर में अकड़न आने लगती है और मुंह से झाग निकलने लगता हैं तो लोग तरह-तरह की बाते सोचने लगते हैं। कुछ लोग मरीज को जूता सुंघाने लगते है, तो कुछ लोग इस बीमारी को भूत-प्रेत के कारण बताने लगते है। दरअसल यह कोई मानसिक रोग नहीं अपितु मस्तिष्कीय विकृति है। “मिर्गी रोग एक साध्य बीमारी है। मिर्गी रोग से डरें नहीं, इसे समझें और इलाज कराये।” 1. परिचय: मिर्गी रोग मानव सभ्यता की ज्ञात सबसे पुरानी बीमारियों में से एक है । लिखित भाषा में मिर्गी शब्द का उल्लेख सर्वप्रथम प्राचीन मिश्र देश के भोज पत्रों (पैपाइरस) में मिलता है। प्राचीन महान भारतीय चिकित्सा शास्त्र चरक संहिता में मिर्गी रोग का विस्तृत वर्णन मिलता है। दुनिया भर के लगभग पाँच करोड़ लोग और भारत के करीब एक करोड़ लोग मिर्गी रोग से ग्रसित हैं। लगभग 8 से 10 प्रति शत लोगों को अपने जीवन काल में एक बार दौरा पड़ने की संभावना रहती है। यह एक आम बीमारी है जो लगभग सौ लोगों में से एक को होती है। 17 नवम्बर को विश्व भर में “विश्व मिर्गी दिवस” का आयोजन होता है। इस दिन तरह-तरह के जागरूकता अभियान और उपचार

Secrets of Healthy & Happy Life

We are shaped by our thoughts; we become what we think. When the mind is pure, joy follows like a shadow that never leaves. Those whose minds are shaped by selfless thoughts give joy when they speak or act. Enthusiastic people are the ones who actually get things done in this world. Enthusiasm is what turns any idea into reality. And enthusiasm is linked closely with happiness. The seven blunders that human society commits and cause all the violence: wealth without work, pleasure without conscience, knowledge without character, commerce without morality, science without humanity, worship without sacrifice, and politics without principles. Taking control of your well being is of utmost importance because the soundness of your body and mind is your most valuable asset. A sign of wholeness in your body and mind is shown in your vitality and high energy level to accomplish any task or goals. You can improve or maintain your personal well being by practicing some common sense: 1